श्रीलंका में चीन कैसे बढ़ा रहा है भारत की चिंता?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

श्रीलंका में चीन कैसे बढ़ा रहा है भारत की चिंता?

  • 23 अक्तूबर 2017

चीन और श्रीलंका के बीच दक्षिण समुद्री बंदरगाह हम्बनटोटा को लेकर 1.1 अरब डॉलर का समझौता हो गया है. इस समझौते पर श्रीलंका ने हस्ताक्षर कर दिया है.

हम्बनटोटा पर चीन का नियंत्रण होगा और उसे वह विकसित करेगा. यह समझौता महीनों से लटका हुआ था. श्रीलंका की तरफ़ से इस बात की चिंता जताई जा रही थी कि कहीं बंदरगाह का इस्तेमाल चीनी सेना न करने लगे.

चीन की तरफ़ से श्रीलंका को आश्वासन दिया गया है कि वह बंदरगाह का इस्तेमाल केवल व्यावसायिक रूप से करेगा. हम्बनटोटा का रूट एशिया से यूरोप तक है. श्रीलंका का कहना है कि इस समझौते से मिलने वाली रकम से विदेशी क़र्ज़ चुकाने में उसे मदद मिलेगी.

विश्लेषकों के अनुसार हम्बनटोटा से भारत के लिए चिंता की बात ये है कि चीन दक्षिण में उसके और क़रीब आ गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे