"वे चाहते थे, मेरी मौत जेल में ही हो"
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

"वे चाहते थे, मेरी मौत जेल में ही हो"

  • 5 नवंबर 2017

जब नॉर्मन सिर्फ़ 15 साल के थे तब उन्हें हत्या के एक मामले में उम्र कैद की सज़ा दी गई.

इस मामले में 32 साल काटने के बाद एक अहम क़ानूनी बदलाव के बाद नॉर्मन को रिहा किया गया है.

जानिए, जेल में तीन दशक बिताने के बाद नॉर्मन अपनी ज़िंदगी में नई शुरुआत कैसे कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे