वो महल, जिसके दरवाज़े सबके लिए खुले हैं
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

वो महल, जिसके दरवाज़े सबके लिए खुले हैं

  • 13 नवंबर 2017

भारत की राजधानी दिल्ली में एक महल ऐसा भी है, जिसके दरवाज़े सबके लिए खुले हैं.

शहर के बीचों-बीच घने जंगल में स्थित मालचा महल दिखने में कोई बहुत असाधारण तो नहीं है, लेकिन चौदहवीं शताब्दी की इस शिकारगाह से एक अनोखी कहानी ज़रूर जुड़ी है.

बेगम विलायत महल 1970 के दशक में लोगों के सामने आईं. उनका दावा था कि वो अवध के अंतिम नवाब वाजिद अली शाह की परपोती थीं और वो भारत सरकार से उन तमाम जायदाद के बदले मुआवजे की मांग कर रहीं थीं, जिसे भारत सरकार ने उनके दादा-परदादा से ज़ब्त कर लिया था.

वीडियो: सुहैल हलीम

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे