“गोरखा सिर्फ़ फ़ौज में जाने के लिए नहीं”
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

कहानी ब्रिटेन में बसे भूतपूर्व गोरखा सैनिकों के बच्चे की

  • 19 दिसंबर 2017

ब्रितानी सेना ने क़रीब दो सौ साल पहले गोरखा लोगों को भर्ती करना शुरू किया था.

उनकी बहादुरी के किस्से दुनिया भर में मशहूर हैं. रिटायर होने के बाद हज़ारों गोरखा सैनिक और उनके घरवाले अब ब्रिटेन में रहते हैं, लेकिन उनकी मौजूदा पीढ़ी गोरखा सेना में भर्ती नहीं होना चाहती.

बीबीसी की नेपाली सेवा के संवाददाता भागीरथ योगी की ख़ास रिपोर्ट.

मिलते-जुलते मुद्दे