शारीरिक कमजोरियों के बावजूद चैंपियन बनने वाले मोइन
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

शारीरिक कमजोरियों के बावजूद चैंपियन बनने वाले मोइन

  • 22 दिसंबर 2017

कर्नाटक के बेलगाम ज़िले में रहने वाले 19 वर्षीय मोइन जुनैदी हड्डियों से जुड़ी एक जन्मजात बीमारी के शिकार हैं.

उनके शरीर पर 300 से ज़्यादा फ़्रैक्चर हो चुके हैं, हल्की खांसी या छींक से भी उनकी हड्डियां फ़्रैक्चर हो जाती हैं. लेकिन उनकी ये मजबूरियां महज़ ज़मीन तक ही सीमित है, क्योंकि जैसे ही वे पानी मे उतरते हैं तो एक स्विमिंग चैंपियन बन जाते हैं.

वे 22 राष्ट्रीय और एक अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक जीत चुके हैं. मोइन पैरा खेलों में तैराकी की 50 मीटर फ्रीस्टाइल और 50 मीटर बैकस्ट्रोक स्पर्धा में हिस्सा लेते हैं.

मोइन का सपना है कि एक दिन वे भारत के लिए कॉमनवेल्थ खेलों और पैरालिम्पिक में स्वर्ण पदक जीतें.

वीडियो: नवीन नेगी/प्रीतम रॉय

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)