लावारिस और घायल जंगली जानवरों का मसीहा

लावारिस और घायल जंगली जानवरों का मसीहा

महाराष्ट्र के गढ़चिरोली के जंगलों में सामाजिक कार्यकर्ता डॉक्टर प्रकाश आम्टे और डॉक्टर मंदा आम्टे कई सालों से घायल और बेसहारा जंगली जानवरों का इलाज भी कर रहे हैं और उन्हें आसरा भी दे रहे हैं. उनके शेल्टर होम में बाघ, तेंदुए, भालू और हिरणों समेत कई जानवर हैं जिन्हें पारिवार के सदस्य की तरह रखा जाता है. हालांकि प्रशासन उनके इस शेल्टर होम पर आपत्तियां भी दर्ज करा चुका है.