अपनी ज़मीन पर रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देनेवाला नौजवान

अपनी ज़मीन पर रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देनेवाला नौजवान

सिर्फ चार महीनों में साढ़े छह लाख रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार से भागकर बांग्लादेश पहुंच चुके हैं.

शरणार्थी कैंपों में इनकी हालत ख़राब है. लेकिन वहीं कुछ बांग्लादेशी ऐसे भी हैं जो इनकी ओर मदद का हाथ आगे बढ़ा रहे हैं. मिलते हैं ऐसे ही एक नौजवान से जो कई रोहिंग्याओं को शरण दे चुका है.