Dream Girls: ''फिल्म इंडस्ट्री में दो किस्म के लोग होते हैं''

फिल्म इंडस्ट्री में बतौर सिनेमेटोग्राफर काम करने वाली नेहा का मानना है कि शुरुआत में सब पर खुद को साबित करने का दबाव होता है. वो कहती हैं, ''सेक्सिजम रहता है लेकिन अगर आप अपने आप को साबित कर लें तो एक वक़्त के बाद फ़र्क नहीं पड़ता कि आप आदमी हैं या औरत.''

वीडियो: जान्हवी मुले

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)