राजमोहन: गिरमिटिया मज़ूदरों की दर्द की आवाज़
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

राजमोहन: गिरमिटिया मज़ूदरों के दर्द की आवाज़

  • 12 मार्च 2018

लगभग डेढ़ सौ साल पहले बिहार और उत्तर प्रदेश के गाँवों में घोर ग़रीबी का जीवन जी रहे लोग अपना घर-द्वार छोड़कर पानी के जहाज़ पर सवार होकर सात समंदर पार त्रिनिदाद, टोबेगो और सूरीनाम जैसे उपनिवेशों में मज़दूरी करने चले गए.

ये गिरमिटिया मज़दूर कहलाए. आज भी इनके परिवार भारतीय संस्कृति को सहेजे हुए वहाँ रह रहे हैं.

आज आपकी मुलाक़ात एक ऐसे ही भारतवंशी से करवा रहे हैं जिनके परदादा बिहार के छपरा से निकले और सूरीनाम जाकर बस गए.

राजमोहन, गिरमिटिया मज़दूरों के दर्द के गीत लिखते और गाते हैं. उनसे मुलाक़ात की बीबीसी हिंदी रेडियो के संपादक राजेश जोशी ने.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे