बाबरी विध्वंस के समय क्या सोच रहे थे कल्याण सिंह ?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

बाबरी विध्वंस के समय क्या सोच रहे थे कल्याण सिंह ?

  • 16 मार्च 2018

कई महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके और भारत के रक्षा सचिव पद से रिटायर हुए योगेंद्र नारायण की हाल में आत्मकथा प्रकाशित हुई है Born to serve- Power Games in Bureaucracy जिसमें उन्होंने अपने 40 साल के आईएएस के कार्यकाल के अपने अनुभवों को साझा किया है. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र दौड़ा रहे हैं योगेंद्र नारायण के घटनाओं से भरे IAS करियर के कुछ दिलचस्प पहलुओं पर.