मिस्र राष्ट्रपति चुनाव: चुनाव के तरीक़े पर उठे सवाल
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

मिस्र राष्ट्रपति चुनाव: चुनाव के तरीक़े पर उठे सवाल

पर मानवाधिकार संस्थाओं ने चुनाव की निष्पक्षता पर सवाल उठाए हैं. मिस्र में 2011 में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनों के बाद होस्नी मुबारक को सत्ता छोड़नी पड़ी थी.

2012 में चुनाव हुए पर अगले साल सेना ने विद्रोह किया और सत्ता जेनरल सीसी के हाथ में आ गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)