इतिहास रचने वाली हिमा के लिए कितना मुश्किल रहा ये सफ़र?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

इतिहास रचने वाली हिमा के लिए कितना मुश्किल रहा ये सफ़र?

  • 16 जुलाई 2018

वंडर गर्ल हिमा दास बचपन से बहुत हिम्मतवाली रही हैं. चाहे खेतों में मेरा हाथ बंटाना हो या गाँव में किसी बीमार को अस्पताल पहुँचाना हो, वो हमेशा से आगे रहती हैं. लेकिन आज जो उन्होंने जो हासिल किया है वो तमाम दिक्क़तों के बावजूद अपने लक्ष्य को हासिल करना है.

हिमा दास ने अंतरराष्ट्रीय ट्रैक एंड फ़ील्ड चैम्पियनशिप के अंडर-20 के 400 मीटर के मुक़ाबले में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता है.

वीडियो: नितिन श्रीवास्तव/ दीपक जसरोटिया

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे