गोलियों के बीच संगीत
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

गोलियों के बीच संगीत

  • 4 सितंबर 2018

रूबाब. सरोद के जैसा दिखनेवाला एक साज़, जो पाकिस्तान के क़बायली इलाके पाराचिनार में सूफ़़ी संगीत का एक अहम हिस्सा होता था. मगर चरमपंथी हिंसा ने इस साज़ को भी ख़तरे में डाल दिया. हालाँकि कुछ लोग इसके बावजूद वहाँ इस साज़ और संगीत को बचाने की कोशिश कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे