क्या भारतीय भूल रहे हैं रिझाने की कला ?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

क्या भारतीय भूल रहे हैं रिझाने की कला ?

  • 7 सितंबर 2018

‘अगर आपको किसी को अपने पैर से रिझाना हो, अपने सैंडिल उतारिए. अपना पैर थोड़ा सा दिखाइए, इधर उधर मोड़िए. बहुत कम लोगों को अंदाज़ा है कि पैर जिस्म का सबसे सुंदर अंग है.’

सीमा आनंद की पुस्तक ‘द आर्ट्स ऑफ़ सिडक्शन’ पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे