'कश्मीर में हम महफ़ूज़ नहीं'

कश्मीर के रहने वाले 26 साल के आबिद हुसैन कथित तौर पर सुरक्षाबलों की गोलीबारी के शिकार हो गए.

कहा जा रहा है कि वो सरकार विरोधी प्रदर्शनों में शामिल थे.

उनकी पत्नी इंडोनेशियाई नागरिक थीं. वो अब कश्मीर में रह रही हैं लेकिन अपने पति की मौत के बाद अब उन्हें ये जगह सुरक्षित नहीं लगती.

बीबीसी संवाददाता रियाज़ मसरूर की रिपोर्ट

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)