गोलियों की गूंज के बीच कश्मीर में पसरा मातम

कश्मीर के लिए ये साल पिछले एक दशक का सबसे ख़ूनी साल साबित हुआ.

सैकड़ों लोग हिंसा में मारे गए हैं जिसमें चरमपंथियों और सुरक्षाबलों के अलावा बेगुनाह आम लोग भी शामिल हैं.

गोलीबारी से सुलगते कश्मीर में अवाम की ज़िंदगी ख़ौफ़ के साये में बीत रही है और अमन की उम्मीद दूर दूर तक कहीं नज़र नहीं आती.

बीबीसी संवाददाता योगिता लिमये की ये ख़ास रिपोर्ट देखिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)