धंधा-पानी
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

देश में रोज़गार की हालत पिछले 45 सालों में सबसे ख़राब है ?

  • 9 फरवरी 2019

2019 सरकार ने पिछले दिनों अंतरिम बजट पेश किया...बजट भाषण में वित्त मंत्री ने ये ज़रूर कहा कि पिछले दो सालों में appxx दो करोड़ नौकरियों के मौके बने, लेकिन एक बार फिर इन आंकड़ों पर सवाल उठने लगे.

नेशनल सैंपल सर्वे ऑफ़िस यानी एनएसएसओ के लीक हुए एक सर्वे में दावा किया गया है कि इस वक्त देश में रोज़गार की हालत पिछले 45 सालों में सबसे खराब है. रिपोर्ट में कहा गया है कि LFPR नोटबंदी के बाद काफी गिर गया है और सबसे ज्यादा मार पड़ी है .नीती आयोग का कहना है कि यह रिपोर्ट फ़ाइनल नहीं है.

पिछले दिनों सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी यानी CMIE ने बेरोजगारी का डेटा पेश किया था, जिसमें कहा गया है कि बीते एक साल में यानी साल 2018 में करीब 1.10 करोड़ भारतीयों को अपनी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा, जिनमें महिलाओं की संख्या 88 लाख रही और 22 लाख पुरुष बेरोजगार हुए.

रिपोर्ट के अनुसार भारत में साल 2018 में बेरोजगारी की दर 7.4 फीसदी थी, यह पिछले 15 महीने में सबसे अधिक थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे