'आईएस फ़ाइटर बनने का अफ़सोस नहीं'

'आईएस फ़ाइटर बनने का अफ़सोस नहीं'

ब्रिटेन की रहने वाली एक लड़की शमीमा भी इस्लामिक स्टेट की विचारधारा से प्रभावित हो कर इस चरमपंथी गुट में शामिल होने के लिए सीरिया चली गई थीं.

लेकिन अब वो अपने बेटे के बेहतर भविष्य के लिए ब्रिटेन लौटना चाहती है हालांकि उन्हें आईएस में शामिल होने का मलाल भी नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)