अपनों को खोने का दर्द बना चुनावी मुद्दा
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पंजाब: अपनों को खोने का दर्द बना चुनावी मुद्दा

  • 15 मई 2019

पिछले 15 साल में पंजाब में सोलह हज़ार छह सौ किसानों ने आत्महत्या कर ली.

जान देने वालों में महिला और पुरुष दोनों रहे हैं. किसानों की आत्महत्या का मुद्दा चुनावों में उठता है, पर इन किसानों के परिवार वालों की फ़िक्र क्या वाकई कोई करता है.

ये सवाल उठा रही हैं बठिंडा की एक महिला जिनके अपने ही परिवार में कोई लोगों ने अपनी जान दे दी.

वो अपने जैसे कोई लोगों का दर्द संसद तक पहुंचाने के लिए ख़ुद ही चुनाव लड़ रही हैं.

देखिए सरबजीत सिंह धालीवाल की रिपोर्ट.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे