अवसाद ज़िंदगी का अंत नहीं
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

अगर आप अवसाद से जूझ रहे हैं तो ज़रूर देखें ये वीडियो

  • 20 मई 2019

शीतल कोटक बॉडीबिल्डर हैं और उनका मानना है कि अगर कोई अवसाद से जूझ रहा है तो उसे ये नहीं मान लेना चाहिए कि सबकुछ ख़त्म हो गया.

क्योंकि ज़िंदगी में बदलाव लाया जा सकता है. लोग उन्हें स्ट्रॉंग कहकर पुकारते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे