ब्रिटेन के सिखों का मसीहा
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

एक शख़्स जिसने पचास साल पहले ब्रिटेन में रहने वाले सिख समुदाय के लोगों को दिलाया उनका हक़

  • 28 मई 2019

इंग्लैंड में रहने वाले भारतीय मूल के तरसेम सिंह संधू आज से 50 साल पहले ने वहां के सिख समुदाय के लिए मसीहा बन कर उभरे थे.

उस समय बस ड्राइवर का काम कर रहे तरसेम सिंह को नौकरी से इसलिए हटा दिया गया था क्योंकि उन्होंने अपनी दाढ़ी और पगड़ी हटाने से इनकार कर दिया था.

उन्होंने इसका विरोध किया जो जल्द ही आंदोलन की शक्ल में बदल गया और ब्रितानी सरकार को सिखों के लिए नियम बदलने पर मजबूर होना पड़ा. गगन सभरवाल की रिपोर्ट.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे