वो औरत, जो रोज घरेलू हिंसा झेलती है
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

अपने पति के हाथों रोज़ घरेलू हिंसा झेलने वाली औरत की आपबीती

  • 11 जुलाई 2019

"अगर किसी रिश्ते में एक दूसरे को थप्पड़ मारने, गाली देने की आज़ादी नहीं तो मेरी नज़र में शायद वो प्यार ही नहीं है."

ये कहना है फ़िल्म 'कबीर सिंह' के डायरेक्टर संदीप रेड्डी वांगा का. मगर प्यार में हिंसा की जगह क्यों हो? इसका जवाब दे रही है एक ऐसी औरत जो लगभग हर रोज घरेलू हिंसा झेलती है.

रिपोर्ट: सिन्धुवासिनी, साहिबा ख़ान

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)