लेफ़्टिनेंट विजयंत थापर का ‘आख़िरी ख़त’
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

लेफ़्टिनेंट विजयंत थापर का ‘आख़िरी ख़त’

  • 2 अगस्त 2019

1999 में ‘तोलोलिंग’ चोटी पर जीत से ही कारगिल युद्ध का रुख़ पलटना शुरू हुआ था. इस ऑपरेशन में लेफ़्टिनेंट विजयंत थापर ने भी भाग लिया था.

बाद में उन्हें ‘नौल’ या ‘थ्री पिंपल्स’ चोटियों को फ़तह करने की ज़िम्मेदारी भी दी गई, जहाँ लड़ते हुए उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दी. कारगिल सीरीज़ की चौथी और अंतिम कड़ी में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं लेफ़्टिनेंट विजयंत थापर की कहानी पर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे