भारत में समलैंगिक होना कितना मुश्किल है?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

भारत में समलैंगिक होना कितना मुश्किल है?

  • 13 सितंबर 2019

भारत के सुप्रीम कोर्ट ने बीते साल 6 सितंबर को समलैंगिक सेक्स को क़ानूनी वैधता दी. इस फ़ैसले के एक साल बाद समलैंगिकों के लिए माहौल कितना बदला और क्या वो आज़ादी के साथ अपने रिश्ते क़बूल कर पा रहे हैं? बीबीसी ने 41 साल के कृष से मुलाक़ात की और उनकी ज़िंदगी में आए बदलावों को जानने की कोशिश की. कृष ने बताया कि भारत में एक गे शख़्स का रहना कैसा है.

वीडियो: विकास पांडेय/अंशुल वर्मा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे