जेएनयू के छात्रों का विरोध प्रदर्शन कितना सही?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

जेएनयू के छात्रों का विरोध प्रदर्शन कितना सही?

  • 19 नवंबर 2019

पिछले कई दिनों से दिल्ली स्थित जवाहर लाल यूनिवर्सिटी के छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. विरोध है बढ़ी फ़ीस का.

जेएनयू ने फ़ीस को लेकर नए नियम जारी किए हैं जिसके बाद एक सीटर कमरे का मासिक किराया 20 रुपए से बढ़कर 600 रुपए हुआ और दो लोगों के लिए कमरे का किराया 10 रुपए से बढ़कर 300 रुपए.

साथ ही हर महीने 1700 रूपए का सर्विस चार्ज भी लिए जाने का ऐलान हुआ.

यानी उन नियमों के मुताबिक़ कम से कम 3350 रूपए हर महीने एक छात्र को देना है, इसके अलावा मेस फ़ीस अलग और बिजली, पानी और रख-रखाव का चार्ज अलग.

इससे एक छात्र का ख़र्च कितना बढ़ा? कितने छात्र होंगे प्रभावित? जेएनयू पर कितना आर्थिक बोझ? क्या जेएनयू के पास कोई और रास्ता नहीं?

रिपोर्ट - सर्वप्रिया सांगवान

कैमरा/एडिटिंग - रूबाइयत

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)