पिता बनने से रोकने वाला दुनिया का पहला इंजेक्शन लाने के करीब भारतीय वैज्ञानिक
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

एक इंजेक्शन जो 'आपको पिता नहीं बनने देगा'

  • 29 नवंबर 2019

भारतीय शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि उन्होंने दुनिया का पहला इंजेक्टेबल मेल कॉन्ट्रासेप्टिव यानि ऐसा इंजेक्शन बना लिया है जो पुरुषों को पिता बनने से रोकेगा.

इस इंजेक्शन को इंडियन कांउसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर ने विकसित किया है. आईसीएमआर में वैज्ञानिक डॉक्टर आर.एस. शर्मा का कहना है कि ये इजेक्शन सिर्फ़ एक बार दिया जाएगा और 13 साल तक कॉन्ट्रासेप्टिव की तरह काम करेगा.

वैज्ञानिक डॉ. आर.एस. शर्मा बताते हैं कि इस इंजेक्शन के लिए पांच राज्यों - दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, जम्मू, पंजाब और राजस्थान में लोगों पर क्लीनिकल ट्रायल किए गए और ऐसे पुरुषों को चुना गया जिनके पहले से ही दो बच्चे थे.

डॉ. शर्मा बताते हैं कि इस पर आईसीएमआर 1984 से ही काम कर रहा था और इस इजेंक्शन में इस्तेमाल होने वाले पॉलिमर को प्रोफ़ेसर एस.के. गुहा ने विकसित किया है.

उनका कहना है कि अब ये दवा हरी झंडी के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया या डीजीसीआई के पास गई हुई है जिसके बाद ये फैसला लिया जाएगा कि इसे कौन-सी कंपनी बनाएगी और कैसे ये लोगों तक पहुंचेगा.

कैसे ये इंजेक्शन काम करेगा और इसकी प्रक्रिया क्या है, समझने के लिए बीबीसी संवाददाता सुशीला सिंह ने आईसीएमआर के वैज्ञानिक आर.एस शर्मा से बातचीत की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे