रंगा और बिल्ला के जीवन के आखिरी क्षण
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

रंगा और बिल्ला के जीवन के आखिरी क्षण

  • 29 नवंबर 2019

हाल ही में सुनील गुप्ता और सुनेत्रा चौधरी की एक किताब प्रकाशित हुई है ‘ब्लैक वॉरंट - कनफ़ेशंस ऑफ़ अ तिहाड़ जेलर’ जिसमें फाँसी पाए अपराधियों के अंतिम क्षणों का वर्णन किया गया है.

1982 में जब ख़ूँख़ार अपराधियों रंगा और बिल्ला को फाँसी दी गई थी तो सुनील गुप्ता वहाँ मौजूद थे. कौन थे रंगा और बिल्ला ? उन्होंने कौन सा अपराध किया था जिसने दिल्ली को हमेशा के लिए बदल कर रख दिया था ?

रंगा और बिल्ला को फाँसी देते समय क्या क्या हुआ था बता रहे हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में