दारा शुकोह का दर्दनाक अंत
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

कहानी दारा शुकोह के दर्दनाक अंत की

  • 17 जनवरी 2020

मुग़ल इतिहास में हिंदू और मुसलमानों को नज़दीक लाने की जितनी पुरज़ोर कोशिश दारा शुकोह ने की थी उतनी शायद अकबर के अलावा किसी और ने नहीं.

शाहजहाँ के सबसे बड़े बेटे होने के बावजूद उन्हें राजगद्दी से महरूम होना पड़ा, बल्कि उनका इतना क्रूर अंत हुआ, जिसकी मिसाल आज तक नहीं मिलती.

हाल ही में अवीक चंदा की एक किताब प्रकाशित हुई है, 'दारा शुकोह - द मैन हू वुड बी किंग' जिसमें उनके उदय से अस्त होने की कहानी को बहुत रोचक ढंग से बयान किया गया है.

आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल याद कर रहे हैं मुग़ल सल्तनात के इस अभागे शहज़ादे को.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)