साफ़ पानी न मिलने से हर साल होती है दो लाख लोगों की मौत

साफ़ पानी न मिलने से हर साल होती है दो लाख लोगों की मौत

भारत के कई इलाके पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं.

कई ऐसे परिवार हैं जिन्हें ना तो पीने का साफ़ पानी मिल पाता है और ना ही रोज़ाना की ज़रूरतों के लिए ही पानी पूरा पड़ता है.

घर की औरतें, बच्चे सुबह आंख खुलने के साथ ही पानी भरने के लिए कतारों में खड़े नज़र आते हैं. छोटे-छोटे बच्चे अपने वज़न से अधिक पानी भरते नज़र आते हैं.

लेकिन कुछ इलाक़े ऐसे भी हैं, जहां पानी की बर्बादी होती है.

नीति आयोग की साल 2018 में जारी एक रिपोर्ट में कहा गया था कि साफ़ पानी नहीं मिलने की वजह से हर साल दो लाख लोगों की मौत हो जाती है.

साल 2019 के अप्रैल महीने में भारत का 42 फ़ीसदी हिस्सा सूखे की चपेट में था.

हर साल पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है.

बीबीसी की ये ख़ास सीरीज़ पर्यावरण के महत्व को ध्यान में रखकर तैयार की गई है.

देखिए, इस सीरीज़ का पहला वीडियो.

प्रोड्यूसर: वमसी चैतन्य

इलेस्ट्रेशन: गोपाल शून्य

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)