गर्मियों में काम करना जानलेवा क्यों बनता जा रहा है?

गर्मियों में काम करना जानलेवा क्यों बनता जा रहा है?

भारत में बीते कुछ सालों से गर्मियों के मौसम में लोगों के लिए दोपहर के समय में काम करना मुश्किल होता जा रहा है.

विशेषत: दोपहर बारह बजे से शाम चार बजे के बीच गर्मी अपने चरम पर होती है.

ये वो समय होता है जब भारत में लाखों लोग अपनी जीविका कमाने के लिए मेहनत कर रहे होते हैं.

इनमें किसान, ईंट-भट्टों, धातु पिघलाने की भट्टियों में काम करने वाले और दिहाड़ी मजदूर शामिल होते हैं.

बीते कुछ सालों में इस वर्ग पर गर्मी का क्या असर पड़ा है, ये समझने के लिए देखें ये वीडियो.

हर साल पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है. बीबीसी की ये ख़ास सीरीज़ पर्यावरण के महत्व को ध्यान में रखकर तैयार की गई है.

देखिए, इस सीरीज़ का तीसरा वीडियो.

प्रोड्यूसर: वमसी चैतन्य

इलस्ट्रेशन: गोपाल शून्य

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)