कानपुर मुठभेड़: "एक बार फायरिंग शुरू हुई तो हम अलग-थलग पड़ गए"

कानपुर मुठभेड़: "एक बार फायरिंग शुरू हुई तो हम अलग-थलग पड़ गए"

उत्तर प्रदेश के कानपुर में शुक्रवार की रात कई थानों की पुलिस अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए गई थी. लेकिन विकास दुबे गैंग की ओर से फायरिंग किए जाने की वजह से आठ पुलिसकर्मियों की मौत हुई है. इसके साथ ही कई लोग अभी भी घायल अवस्था में हैं.

लेकिन उस रात आख़िर क्या हुआ था, ये समझने के लिए सुनिए उस पुलिसकर्मी की आपबीती जो विकास दुबे को पकड़ने के लिए गए थे. कानपुर के बिठूर थाने के थानाध्यक्ष कौशलेंद्र प्रताप सिंह को दो गोलियां लगी थीं लेकिन अपनी जान की परवाह न करते हुए उन्होंने अपने तीन साथियों की जान बचाई.

फिलहाल तीनों लोग सुरक्षित हैं, उस रात क्या हुआ था, ये जानने के लिए देखें वीडियो.

वीडियो रिपोर्ट - अनंत प्रकाश / शुभम कौल

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)