यौन सुख के लिए यह कैसा प्रचलन!

यौन सुख के लिए यह कैसा प्रचलन!

राजनीति में लैंगिक समानता की जब कभी बात होती है तो रवांडा का नाम हमेशा ही शीर्ष पर लिया जाता है.

लेकिन रवांडा में लैंगिक समानता सिर्फ जनभागीदारी का ही मसला नहीं है बल्कि उससे बढ़कर यह यौन सुख लेने पर भी लागू होता है.

बीबीसी ने रवांडा की मशहूर रेडियो होस्ट और सेक्सोलोजिस्ट वेस्टाइन डुसाबे के साथ बात की और उनसे रवांडा में जारी यौन सुख से जुड़े एक अजीब प्रचलन के बारे में जाना.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)