कोरोनाकाल में कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिनके लिए डिस्टेंसिंग जैसे शब्द मायने नहीं रखते.

कोरोनाकाल में कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिनके लिए डिस्टेंसिंग जैसे शब्द मायने नहीं रखते.

कोरानाकाल में जब सोशल डिस्टेंसिंग और सेल्फ़ आइसोलेशन जैसे शब्दों पर ज़ोर दिया जा रहा है, तो कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिनके लिए ये शब्द मायने नहीं रखते. डर इन्हें भी लगता है, लेकिन ग़रीबी से लाचार पाकिस्तान की सेक्स वर्कर्स अपना काम करने के लिए मजबूर हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)