क़र्ज़ लेकर हवाई सफ़र करने को मजबूर हैं बिहार के ये मज़दूर

क़र्ज़ लेकर हवाई सफ़र करने को मजबूर हैं बिहार के ये मज़दूर

कोरोना लॉकडाउन के वक़्त बड़ी संख्या में प्रवासी मज़दूरों ने शहरों से गांवों का रुख़ किया था. लेकिन अब धीरे-धीरे एक बार फिर लोग रोज़गार के लिए घर से बाहर निकल रहे हैं.

बिहार के कई मज़दूर हवाई जहाज़ से अपने काम पर वापस लौट रहे हैं. कुछ के पैसे उनकी कंपनी दे रही है, तो कुछ ने कर्ज लेकर टिकट ख़रीदे हैं. इनकी पहली हवाई यात्रा भले ही मजबूरी में हो रही है लेकिन ये अधिकतर का सपना था. बिहार के अंदरूनी इलाकों से आए ये मजदूर अपनी फ़्लाइट के तय समय से 15-16 घंटे पहले ही पहुंच गए हैं.

दूसरे राज्यों में काम की तलाश में निकल रहे लोग बिहार सरकार के काम और राशन संबंधी दावों पर पर सवाल उठाते हैं. बिहार के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव अनुपम कुमार के मुताबिक, राज्य सरकार ने कोरोना के दौरान रोजगार मुहैया कराने को विशेष प्राथमिकता दी है.

रिपोर्टः सीटू तिवारी, बीबीसी हिंदी के लिए

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)