फ़ातिमा शेख़: सावित्री बाई फुले के मिशन की सबसे मज़बूत सहयोगी और साथी शिक्षिका

फ़ातिमा शेख़: सावित्री बाई फुले के मिशन की सबसे मज़बूत सहयोगी और साथी शिक्षिका

इतिहास में जहां पहला स्कूल खोलने का श्रेय ज्योतिबा फुले को दिया जाता है तो पहली शिक्षिका में नाम सावित्री बाई फुले और उनकी सहयोगी फ़ातिमा शेख़ को भी याद किया जाता है.

फ़ातिमा शेख़ ने तकरीबन 175 साल पहले समाज के सबसे दबे-कुचले लोगों और ख़ासकर महिलाओं की तालीम के लिए सावित्री बाई फुले के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम किया.

एक जनवरी सन् 1848 में पुणे के बुधवार पेठ में जब पहला स्कूल खोला गया तो सावित्री बाई के साथ फ़ातिमा शेख़ भी वहाँ पढ़ाती थीं हालांकि फ़ातिमा शेख़ के बारे में लोग कम ही जानते हैं.

बीबीसी हिंदी दस ऐसी महिलाओं की कहानी ला रहा है जिन्होंने लोकतंत्र की नींव मज़बूत की इसकी आठवीं कड़ी में देखिए अनसूया साराभाई की कहानी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)