पीरियड्स को लेकर झिझक क्यों?

पीरियड्स को लेकर झिझक क्यों?

दुनिया की आधी आबादी अब पुरुषों के साथ क़दम से क़दम मिलाकर आगे बढ़ रही है. आर्थिक तरक्की में योगदान दे रही है पर क्या महिला होना उनके क़दम पीछे खींचता है?

क्या उनकी बायोलॉजिकल साइकल ,जैसे पीरियड्स का आना उनकी तरक्की के आड़े आता है या फिर सोच में बदलाव आने लगा है?

और क्या इस बदलती सोच से महिलाओं के लिए बदलाव के रास्ते भी खुल रहे हैं ...कवर स्टोरी में इसी की बात.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)