सत्तू खाना और ज़िंदगी की जद्दोजहद में लग जाना

सत्तू खाना और ज़िंदगी की जद्दोजहद में लग जाना

यूं तो सत्तू से बनने वाले कई व्यंजन देश के कई हिस्सों में खाए जाते हैं लेकिन बिहार में ग़रीब लोगों को सत्तू में स्वाद से कहीं ज़्यादा ज़िंदगी गुज़ारने का जुगाड़ नज़र आता है.

ये लोग सत्ता और उससे जुड़े लोगों के यूं तो काफ़ी क़रीब रहते हैं लेकिन हक़ीक़त में सहूलियतों से कोसों दूर रहते हैं.

इन्हीं लोगों से बात की बीबीसी संवाददाता रजनीश कुमार ने.

कैमरा: विष्णु नारायण, बीबीसी हिंदी के लिए

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)