पाकिस्तान के 'मिट्ठू-मिट्ठी' की प्रेम कहानी का अब क्या हाल है?

पाकिस्तान के 'मिट्ठू-मिट्ठी' की प्रेम कहानी का अब क्या हाल है?

मिट्ठू और मिट्ठी’ से हम एक साल पहले मिले थे, वो अभी भी साथ हैं. इस एक साल में, मुख़्तार अहमद और शाहीन अख़्तर की ज़िंदगी में कई बदलाव आए. लेकिन ऐसा भी नहीं कि सबकुछ बदल गया. बीते तीन साल में पहली बार वो सर्द रातों में खुले आसमान के नीचे नहीं सोए. अब उन्हें भूखा नहीं रहना पड़ता. अपने नौ बच्चों को खोने के बाद, शाहीन का मानसिक संतुलन बिगड़ गया, लेकिन मुख़्तार ने उनका साथ नहीं छोड़ा. मुख़्तार नहीं चाहते थे कि कोई शाहीन को वो दर्द भरी यादें याद करवाए. इन दोनों का रोज़ का रूटीन अभी भी पहले की तरह ही है.

वीडियोः उमर दराज़ नांगियाना और वक़ास अनवर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)