गुजरात: 20 साल बाद 127 मुसलमानों को मिला 'इंसाफ़'

गुजरात: 20 साल बाद 127 मुसलमानों को मिला 'इंसाफ़'

साल 2001 में गुजरात के सूरत से 127 लोगों को गिरफ्तार किया गया था. ये सभी सूरत में एक वर्कशॉप में हिस्सा लेने पहुंचे थे. इस वर्कशॉप का आयोजन दिल्ली के जामिया नगर स्थित ऑल इंडिया माइनोरिटी एजुकेशन बोर्ड ने किया था. ये संगठन अल्पसंख्यकों को शिक्षा के अधिकार पर संवैधानिक मार्गदर्शन प्रदान करता है.

उस दो दिवसीय कार्यक्रम में देश के 10 राज्यों से 127 लोग शामिल हुए थे. लेकिन इन लोगों को कार्यक्रम से एक दिन पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया. इन सभी को सिमी संगठन के साथ जुड़े होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया, स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ़ इंडिया यानी सिमी एक प्रतिबंधित संगठन है. हनीफ़भाई गनी भाई वोरा को भी अब कोर्ट ने बरी कर दिया है.

वीडियो: धर्मेश अमीन, बीबीसी गुजराती

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)