रफ़ाल सौदे में भ्रष्टाचार के नए आरोप क्या हैं और किसने लगाए?

रफ़ाल सौदे में भ्रष्टाचार के नए आरोप क्या हैं और किसने लगाए?

लगभग 60,000 करोड़ रुपये वाले रफ़ाल सौदे पर हुआ विवाद एक बार फिर सुर्ख़ियों में है. इसकी ख़ास वजह फ़्रांस की एक मीडिया कंपनी 'मीडियापार्ट' की एक एक्सक्लूसिव रिपोर्ट है जिसमें दावा किया गया है कि रफ़ाल की निर्माता कंपनी डासो ने भारत के एक बिचौलिये को 10 लाख यूरो दिए जो सौदे से अलग दी गई राशि है. इस बिचौलिये के ख़िलाफ़ ऑगस्टा हेलिकॉप्टर डील घोटाले में शामिल होने के इलज़ाम में जाँच चल रही है. किकबैक और भ्रष्टाचार पर मीडियापार्ट की तीन क़िस्तों वाली स्टोरी में रफ़ाल स्कैंडल से संबंधित कुछ नए सवाल उठाए हैं, कुछ नई जानकारी सामने आई हैं. इस फ्रांसीसी वेबसाइट ने 'रफ़ाल लड़ाकू जेट की भारत में बिक्री: एक घोटाले को कैसे दबाया गया था' की सुर्ख़ी से चलाई अपनी स्टोरी में दावा किया कि "इस विवादास्पद सौदे के साथ, डासो ने उस बिचौलिये को 10 लाख यूरो का भुगतान किया किया जिसकी एक अलग रक्षा सौदे (ऑगस्टा हेलिकॉप्टर डील) के संबंध में भारत में जाँच की जा रही है."

स्टोरी: टीम बीबीसी

आवाज़: नवीन नेगी

वीडियो एडिटिंग: मनीष जालुई

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)