रेप और महिलाओं से जुड़ी गालियां कैसे एक दूसरे के बराबर हैं?

रेप और महिलाओं से जुड़ी गालियां कैसे एक दूसरे के बराबर हैं?

किसी का रेप और गालियां ये दोनों की बातें एक दूसरे के समान हैं.

अक्सर गालियों में महिलाओं का ही ज़िक्र होता है. उन्हीं से जोड़कर गालियां दी जाती हैं.

ये गालियां बचपन से ही हम इतनी बार सुन चुके होते हैं कि जब कभी किसी महिला के साथ घटित रेप की वारदात के बारे में पता चलता है तो हम कुछ पल के लिए परेशान होने के बाद फिर सामान्य हो जाते हैं, जैसे कि कुछ हुआ ही नहीं.

इसी स्थिति पर अपनी विशेष टिप्पणी कर रहे हैं पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार वुसअतुल्लाह ख़ान.

वीडियो एडिटः रुबाइयत बिस्वास

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)