कोरोना के दौर में क्यों ज़्यादा ख़तरे में हैं धूम्रपान करने वाले?

कोरोना के दौर में क्यों ज़्यादा ख़तरे में हैं धूम्रपान करने वाले?

धूम्रपान करने वालों में कोरोना के घातक परिणामों का ख़तरा 40 से 50 फ़ीसदी तक अधिक है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ‘वर्ल्ड नो टोबैको डे’ पर यह जानकारी दी है.

उन्होंने कहा कि तंबाकू का सेवन करने वालों और ख़ासकर धूम्रपान करने वालों पर कोरोना से मौत का ख़तरा भी अधिक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)