पाकिस्तान में रहने वाले शिया मुसलमानों ने सुनाई अपनी आपबीती

पाकिस्तान में रहने वाले शिया मुसलमानों ने सुनाई अपनी आपबीती

पाकिस्तान की करीब 20 फ़ीसदी आबादी शिया मुसलमानों की है. उन्हें कई बार ईश निंदा के आरोपों का सामना करना पड़ता है और उन पर जानलेवा हमले भी होते रहते हैं. मानवाधिकार संगठनों की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान में साल 2001 से अब तक करीब 2600 शिया मारे जा चुके हैं. इन संगठनों का कहना है कि ऐसे हमलों और आरोपों की सबसे बड़ी वजह झूठी सामग्री और निराधार मान्यताएं हैं. हमने कुछ शिया मुसलमान महिलाओं से इस बात की और जानने की कोशिश की कि उनके लिए पाकिस्तान में बतौर शिया मुसलमान बड़ा होना कैसा है?

वीडियो: सहर बलोच और मूसा यावरी, बीबीसी उर्दू

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)