काबुल धमाके में 90 लोगों की मौत, तालिबान बोला हमारे ज़्यादा लोग मारे गए

काबुल धमाके में 90 लोगों की मौत, तालिबान बोला हमारे ज़्यादा लोग मारे गए

काबुल के अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर गुरुवार देर शाम हुए दो धमाकों में 90 लोगों की मौत हो गई है और 140 लोग घायल हुए हैं. बीबीसी को ये जानकारी अफ़ग़ानिस्तान के स्वास्थ्य अधिकारी ने दी है. पेंटागन के मुताबिक़ इस हमले में 13 अमेरिकी सैनिक मारे गए हैं और साल 2011 के बाद अमेरिकी सैनिकों के लिए ये सबसे ख़तरनाक हमला साबित हुआ है.

अमेरिकी कमांडर कथित इस्लामिक स्टेट के और हमलों के लिए अलर्ट हो गए हैं. अमेरिकी सेंट्रल कमांड के प्रमुख जनरल फ़्रैंक मैकेन्ज़ी का कहना है कि काबुल एयरपोर्ट पर रॉकेट और गाड़ियों में रखे बम से हमले की आशंका है. इस बीच अफ़ग़ानिस्तान से अमेरिकी फ़ौज की वापसी की प्रक्रिया तेज़ हो गई है.

31 अगस्त से पहले तालिबान से हुए समझौते के मुताबिक अमेरिकी फ़ौज को देश छोड़ देना है. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने इस समय सीमा को बढ़ाया नहीं है. उन्होंने कहा है कि हमलों के बावजूद अफ़ग़ानिस्तान से निकलने की प्रक्रिया जारी रहेगी. उन्होंने ये भी कहा कि गुरुवार को हुए हमले का बदला वो ज़रूर लेंगे. उन्होंने पेंटागन को आदेश दिया है कि ISIS-K पर हमले की योजना बनाई जाए. आईएसआईएस-के इस्लामिक स्टेट का क्षेत्रीय गुट है जिसने काबुल में हुए हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

रिपोर्ट: टीम बीबीसी

आवाज़: मोहम्मद शाहिद

वीडियो एडिटिंग: देबलिन रॉय

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)