क्यों बढ़ रही हैं फ़र्ज़ी मुठभेड़?

मीडिया प्लेयर

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

किसी और ऑडियो/वीडियो प्लेयर में चलाएँ

हर तीसरे दिन भारत में एक आदमी की कथित फर्ज़ी पुलिस मुठभेड़ में मौत होती है. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में पिछले लगभग एक साल में फर्ज़ी मुठभेड़ के कम से कम 130 मामले दर्ज हुए. संसद में सरकार ने स्वीकार किया कि यह आंकड़े चिंताजनक हैं. मगर यह स्थिति इतनी भयावह क्यों होती जा रही है इसकी एक नहीं बल्कि कई वजहें बताई जाती हैं. यह वजहें क्या हैं और कौन है इसके लिए ज़िम्मेदार इसका जायज़ा ले रहे हैं रूपा झा और अनीश अहलूवालिया इस विशेष रिपोर्ट में.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.