दादा साहेब फाल्के का जीवन

  • दादा साहेब फाल्के ने 1913 में भारत की पहली फ़िल्म बनाई. वे भारतीय सिनेमा के पितामह माने जाते हैं. उनका जन्म 30 अप्रैल 1870 में हुआ.(सभी तस्वीरें साभार: दादा साहेब फाल्के स्मारक म्यूज़ियम)
  • दादा साहेब फाल्के ने सिनेमा की शुरुआत कर भारत में क्रांति ला दी. शुरु में उन्होंने बहुत समृद्धि का दौर देखा. कहते हैं कि घर के कपड़े पेरिस से धुल कर आते थे. पैसे से लदी बैलगाड़ियाँ घर आया करती थीं.
  • फाल्के की फ़िल्म कालिया मदर्न जिसमें उनकी बेटी ने अभिनय किया था
  • ये है वो पहला कैमरा जिसे दादा साहेब फाल्के ने इस्तेमाल किया
  • अपने अंतिम दिनों में दादा साहेब की आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी. वी शांताराम जैसे कुछ लोगों ने मिलकर उनके लिए मकान बनवाया. उनकी पत्नी ने अपने सारे गहने बेच दिए थे.
  • दादा फाल्के नासिक के पास जहाँ रहते थे उसका नाम दिया गया था हिंद सिने जनक आश्रण
  • पिछले साल निर्देशक परेश मोकाशी ने दादा साहेब फाल्के पर मराठी फ़िल्म बनाई थी जो भारत ने ऑस्कर में भी भेजी.
  • दादा साहेब फाल्के का निधन फ़रवरी 1944 में हुआ. उनका परिवार अंतिम दिनों में हुई उपेक्षा से काफ़ी दुखी रहा और किसी ने भी फि़ल्मों का रुख़ नहीं किया.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.