प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

बीबीसी हिंदी सेवा की सत्तरवीं वर्षगांठ

हिंदी सेवा की शुरुआत द्वितीय विश्वयुद्ध में लड़ने वाले भारतीय सैनिकों के लिए हुई थी जिससे वो अपने परिवार वालों को संदेश भेज सकें.

लेकिन युद्धकालीन आवश्यकताएं पूरी करने के लिए शुरु की गई हिन्दुस्तानी सर्विस शांतिकाल में भी उतनी ही मूल्यवान साबित हुई.

पिछले 70 सालों में बीबीसी ने दुनिया की हर बड़ी घटना का विवरण श्रोताओं तक पहुंचाया है.

बीबीसी हिंदी सेवा इतिहास का दर्पण रही है लेकिन समय के साथ साथ उसमें परिवर्तन भी आते रहे लेकिन निष्पक्षता और वस्तुपरकता के मूल्यों से कभी समझौता नहीं किया.