प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

कौन पढ़ता है हिंदी साहित्य?

क्या हिंदी साहित्य और हिंदी का साहित्यकार अपने पाठकों से कट गया है? एक ज़माना था जब हिंदीभाषी परिवारों में प्रेमचंद से लेकर इलाचंद्र जोशी, धर्मवीर भारती और निराला की किताबें आम तौर पर पढ़ी जाती थीं. लेकिन अब कहा ये जाता है कि हिंदी के साहित्यकार पाठक के लिए नहीं बल्कि अपने मित्र-शत्रु लेखकों या फिर पुरस्कार पाने की मंशा से साहित्य रचते हैं?

बीबीसी इंडिया बोल पर सुनिए इस गरमागरम बहस को.