प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

क्या डॉक्टर बिनायक सेन देशद्रोही हैं?

पिछले दिनों छत्तीसगढ़ की एक अदालत ने मानवाधिकार कार्यकर्ता और ग़रीबों के बीच में एक अर्से से काम कर रहे डॉक्टर बिनायक सेन को देशद्रोह के लिए आजन्म कारावास की सज़ा सुनाई. उनके साथ माओवादी पार्टी के नेता नारायण सान्याल और पीयूष गुहा को भी आजन्म कारावास हुआ.

इस फ़ैसले की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना हुई है और ये सवाल पूछा जाने लगा है कि क्या अँग्रेज़ों के ज़माने का देशद्रोह क़ानून ख़त्म किया जाना चाहिए.