कलम नहीं तो क्लच सही

कभी समाज और परिवार में हाशिए पर रहने वाली दिल्ली की बस्तियों की कई लड़कियाँ अब नए जीवन की ओर बढ़ रही हैं. पढ़ाई-लिखाई पूरी करने का तो इन्हें ठीक से मौका नहीं मिला लेकिन उन्हें गाड़ी चलाने की ट्रेनिंग देकर बतौर ड्राइवर सड़कों पर उतारा जा रहा है. (पैसे तो ये लड़कियाँ कमा ही रही हैं, अपनी हिम्मत से मिसाल भी पेश कर रही हैं). बीबीसी संवाददाता की विशेष रिपोर्ट.